PANCHKARMA
पंचकर्म आयुर्वेद चिकित्सा पद्धत्ति का एक आवश्यक अंग है| मुख्य रूप से यह एक प्रकार को शोधन चिकित्सा है जो कि शरीर के विषैले तत्वो ( Toxins ) को बहार निकल कर शरीर का सम्पूर्ण शुद्धिकरण कर देता है | पंचकर्म केवल रोगियों के लिए ही नही स्वस्थ व्यक्तियों में ऋतु अनुसार तथा रोगियों में व्याधि के अनुसार पंचकर्म कियाजाता है| वैसे तो शरीर तथा दोष शोधन के लिए कई कर्म किये जाये है| लेकिन मुख्य रूप से ये 5 है :-

वमन :-
बढे हुए कफ दोष को मुख मार्ग द्धारा निकालना |
( उल्टी द्धारा शरीर शोधन)

विरेचन :- 
बढे हुए पित्त दोष को गुदा मार्ग द्धारा निकालना |
(दस्त द्धारा शरीर शोधन)

बसीत :-
बढे हुए वात को शांत करने गुर्दा मार्ग से औषधि डालना

नश्य :-
नासा मार्ग से औषधि डालना

रक्तमोक्षण :-
दूषित रक्त सुई या जोक द्धारा निकालना